HANUMAN CHALISA


Hanuman Chalisa 

Lyrics of Hanuman Chalisa 

श्री हनुमान चालीसा

|| दोहा ||

 

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।

बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।। 

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।

बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।। 

 

चौपाई : 

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।

जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।

रामदूत अतुलित बल धामा।

अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।। 

महाबीर बिक्रम बजरंगी।

कुमति निवार सुमति के संगी।। 

कंचन बरन बिराज सुबेसा।

कानन कुंडल कुंचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।

कांधे मूंज जनेऊ साजै।

 संकर सुवन केसरीनंदन।

तेज प्रताप महा जग बन्दन।। 

विद्यावान गुनी अति चातुर।

राम काज करिबे को आतुर।।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।

राम लखन सीता मन बसिया।। 

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।

बिकट रूप धरि लंक जरावा।। 

भीम रूप धरि असुर संहारे।

रामचंद्र के काज संवारे।।

लाय सजीवन लखन जियाये।

श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।। 

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।

तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।। 

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।

अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।। 

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।

नारद सारद सहित अहीसा।। 

जम कुबेर दिगपाल जहां ते।

कबि कोबिद कहि सके कहां ते।। 

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।

राम मिलाय राज पद दीन्हा।। 

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।

लंकेस्वर भए सब जग जाना।।

जुग सहस्र जोजन पर भानू।

लील्यो ताहि मधुर फल जानू।। 

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।

जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।। 

दुर्गम काज जगत के जेते।

सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।। 

राम दुआरे तुम रखवारे।

होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।

तुम रक्षक काहू को डर ना।। 

आपन तेज सम्हारो आपै।

तीनों लोक हांक तें कांपै।। 

भूत पिसाच निकट नहिं आवै।

महाबीर जब नाम सुनावै।। 

नासै रोग हरै सब पीरा।

जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

 संकट तें हनुमान छुड़ावै।

मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।। 

सब पर राम तपस्वी राजा।

तिन के काज सकल तुम साजा। 

और मनोरथ जो कोई लावै।

सोइ अमित जीवन फल पावै।। 

चारों जुग परताप तुम्हारा।

है परसिद्ध जगत उजियारा।। 

साधु-संत के तुम रखवारे।

असुर निकंदन राम दुलारे।। 

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।

अस बर दीन जानकी माता।। 

राम रसायन तुम्हरे पासा।

सदा रहो रघुपति के दासा।। 

तुम्हरे भजन राम को पावै।

जनम-जनम के दुख बिसरावै।। 

अन्तकाल रघुबर पुर जाई।

जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।। 

और देवता चित्त न धरई।

हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।। 

संकट कटै मिटै सब पीरा।

जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जै जै जै हनुमान गोसाईं।

कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।। 

जो सत बार पाठ कर कोई।

छूटहि बंदि महा सुख होई।। 

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।

होय सिद्धि साखी गौरीसा।। 

तुलसीदास सदा हरि चेरा।

कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।। 

 || दोहा ||

पावनतनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप |

राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप ||

 

Lyrics of Hanuman Chalisa

https://encoresway.com/

Dance On HANUMAN CHALISA 

 

https://youtube.com/channel/UC3JkN2z4MZXo7fZsv5VCo-w

 

A TRIBUTE TO INDIAN ARMY

SOLDIER

  A person who gives us peaceful sleep but himself rest in peace .

Patriotic Dance On Song Teri Mitti

 Teri Mitti

https://encoresway.com

https://youtube.com/channel/UC3JkN2z4MZXo7fZsv5VCO-w

Patriotic dance on the song Teri Mitti sung by Parineeti Chopra .

LYRICS 

मम्म मम्म..

ओह रांझना वे तेरी साँसों पे

थोड़ा सा वतन का भी हक था

ना देख मुझे यूँ मुड़ के

तेरा मेरा साथ यहीं तक था

ये तेरी ज़मीं तेरे खून से ही

तो सजती संवारती है रांझे

तेरे इश्क की मैं हकदार नहीं

तेरी हीर तो धरती है रांझे हाय..

तेरी मिट्टी में मिल जावां

गुल बनके मैं खिल जावां

इतनी सी है दिल की आरजू

तेरी नदियों में बह जावां

तेरी खेतों में लेहरावां

इतनी सी है दिल की आरजू

मम्म मम्म..

ए मेरी ज़मीं अफ़सोस नहीं

जो तेरे लिए सौ दर्द सहे

महफूज़ रहे तेरी आन सदा

चाहे जान मेरी ये रहे ना रहे

ए मेरी ज़मीं महबूब मेरी

मेरी नस नस में तेरा इश्क बहे

फीका ना पड़े कभी रंग तेरा

जिस्मों से निकल के खून कहे हाय..

तेरी मिट्टी में..

गुल बनके मैं..

इतनी सी है दिल की आरज़ू हाय

तेरी नदियों में बह जावां

तेरी फसलों में लेहरावां

इतनी सी है दिल की आरजू……..

TERI MITTI SONG  MEANING

Swords bear memories of our blood…

Burning embers remember our burnt flesh…

By harvesting our sweat and blood…

We were bestowed this saffron crown!

Do not mourn O Motherland, For you I’d bear a hundred blows…

May your glory stay intact, Whether I live or die…

My Land, my beloved, Your love runs in my veins…

With every drop of my blood. I’ll ensure your color never fades…

To become one with your soil…

That’s all my heart desires…

To wash away in your rivers…

Soaring across your fields…

That’s all my heart desires…

May the mustard fields bloom and sway, Where I couldn’t dance with joy.

May my village thrive and prosper, where I couldn’t return.

O beloved country, Our love is that of legends.

To be sacrificed in your honour, How blessed was I!

To become one with your soil..

And blossom as a garden.

That’s all my heart desires.

To wash away in your rivers,

Soaring across your fields,

That’s all my heart desires. Kesari Colour me Saffron!

O my heer (beloved), may you always be happy.

May there never be even a hint of a tear in your eyes ever

The face that I cared for so much.

May the glow of that beautiful face never goes off.

O dear mother, what are you worried for?

Why does a river of tears flowing from your eyes?

You used to say that I’m your moon,

And moon lives forever.

To become one with your soil..

And blossom as a garden.

That’s all my heart desires.

To wash away in your rivers,

Soaring across your fields,

That’s all my heart desires.

https://encoresway.com/